What is SEO And How It Works In Hindi

आज के SEO In Hindi Post में जानते हैं, एस.इ.ओ. क्या है? “What is SEO In Hindi” और SEO Benefits सहित तमाम छोटी बड़ी जानकारी. जो आपके Websites की Traffic को Increase करने में मददगार साबित होगी.

What is SEO In Hindi

जब भी कोई User इंटरनेट से जुड़ कर अपना एक  New Blog बना कर  Online Earning करने के बारे में सोचता हैं. और आधी अधूरी जानकारी के साथ अपना एक न्यू ब्लॉग खुद या किसी से बनवा कर उसपे काम करना शुरू कर देता हैं. और अपने ब्लॉग पर कड़ी मेहनत भी करता हैं. और ढेरो पोस्ट लिखता हैं.

लेकिन फिर भी उसे सफलता नहीं मिल पाती हैं. ब्लॉग पर Traffic ना के बराबर ही रहती हैं और उसके कारण Earning नहीं हो पाती. जिसके चलते New Blogger हमेशा निराश हो जाता हैं. 

उनमे से बहुत से ब्लॉगर  ब्लॉग्गिंग के इस क्षेत्र को छोड़ देते हैं और कुछ ब्लॉगर इस खोज में लग जाते हैं आखिर ऐसा क्या कारण हैं इतनी मेहनत से पोस्ट लिखने के बावजूद भी  ब्लॉग पर Visitors नहीं आ रहे हैं?

तब वही Google पर इस बात को खोजने में लग जाता हैं. और तमाम ब्लॉग्गिंग से जुड़े अलग-अलग वेबसाइट और YouTube को देखने पर एक नाम सबसे ज्यादा सामने आता हैं.

और वो नाम होता हैं  SEO और पता चलता हैं की आज के दौर में ब्लॉग्गिंग क्षेत्र में भी लगातार कम्पटीशन बढ़ता चला जा रहा हैं, हर कोई एक दुसरे से आगे निकलने की सोचते रहते हैं.

अगर खुद को इस दौर में आगे रखना चाहते हैं तो आपको SEO नालेज होना चाहिए ताकि इसका उपयोग बड़ी ही आसानी से अपने ब्लॉग या वेबसाईट पर कर के ब्लॉग्गिंग के क्षेत्र में सफलता पा सकते हैं. अन्य Successful Blogger की तरह.   

आशा करता हूँ की आपको हमारी थोड़ी सी बातो से पता चल ही चूका होगा की बिना SEO किये, ब्लॉग या वेब साईट पर सफलता पाना बहुत ही मुश्किल हैं या यु कहे नामुनकिन हैं.

What Is SEO In Hindi

What is SEO In Hindi / एस.इ.ओ. क्या है?

इसी लिए कहा गया हैं की बिना SEO को अपनाये आपका ऑनलाइन पैसे कमाने का सपना, एक सपना ही बन के रह जाता हैं अगर होना हैं सफल तो SEO  Rules को जाने और Follow करे.

जैसे ही New Blogger को अपनी इस कमी का पता चलता हैं की आखिर क्यों असफल हो रहे थे ब्लॉग्गिंग की दुनियां में, और तब से ही उनके दिमाग में एक ही बात चलने लगती हैं, आखिर ये 

  • SEO क्या हैं? “What is SEO In Hindi ” 
  • SEO क्यो जरूरी है?
  • SEO क्यों करते  हैं?
  • SEO क्या-क्या फायदे हैं ? 
  • SEO कैसे काम करता हैं हमारे ब्लॉग पर? 
  • SEO कितने प्रकार के होते हैं?

और इसी तरह के ढेरो सवाल दिमाग में हमारे चलते रहते हैं. और इन्ही सवालो को विस्तार से जानने और सिखने के लिए बहुत से ब्लॉग को पढ़ते हैं और Youtube देखते हैं. लेकिन फिर भी हमारे कुछ सवाल रह जाते हैं. और SEO से जुडी जानकारी आधी-अधूरी ही रह जाती हैं.

निराश ना हो आप आज की पोस्ट What is SEO In Hindi आपके  लिए, बहुत ही उपयोगी साबित होने वाली हैं.

क्युकि आज की पोस्ट What is SEO In Hindi में SEO से जुड़े आपके तमाम सवालों के जवाब स्टेप बाय स्टेप बताऊंगा ताकि उन्हें अपना कर आप भी ब्लॉग्गिंग के क्षेत्र में सफल हो सके. Popular Blogger की तरह 

What is SEO In Hindiके इस पोस्ट में आपके सवालों से जुड़े जवाब के साथ साथ SEO से जुडी बारीक से बारीक़ जानकारी पा सकेगे और उसे सीख सकेगे.

साथ ही घर बैठे ही अपने पसंद के विषय पर पोस्ट लिख कर एफिलियेट मार्केटिंग, Google adsense  या अन्य बहुत से ऑनलाइन अर्निग के प्लेटफार्म हैं जहा से आप हजारो से लेकर लाखो रुपये कमा सके.

 आज के दौर में इंटरनेट पर Digital Marketing  हो या अपने छोटे या बड़े बिजनेस को प्रमोट करना हो या अपने पसंद के विषय से जुड़े ब्लॉग बना कर पैसे कमाना चाहते हो तो SEO के बारे में आपको जरुर जानना और सिखना होगा  तो आइये  दिमाग में चल रहे SEO से जुड़े तमाम  सवालों के जवाब को जानते हैं. और सिखते हैं. What is SEO In Hindi के इस पोस्ट में.

What is SEO In Hindi ” पोस्ट की  शुरूआत करते हैं SEO की पहली सीढ़ी सर्च इंजन  से करते हैं क्युकी SEO हम Search Engine के लिए ही करते हैं.ताकि हमारा ब्लॉग या Article Search Result में आ सके.

 और हम इसकी मदद से अधिक से अधिक Traffic ला सके और अधिक पैसे कमा सके. तो आईये आगे बढ़ते हैं और जानते हैं स्टेप बाय स्टेप सभी प्रश्नों के उत्तर आसान शब्दों में.

What is Search Engine HINDI

Search Engine

1 :- आपको यह बात अच्छे से पता होगा की किसी भी वेबसाइट या पोस्ट पर विजिटर Google, Bing या Yahoo जैसे ही Search Engine , के द्वारा ही आते हैं. ये एसा Platform हैं जिसे दुनिया भर  के लोग इस्तेमाल करते हैं और अपनी जरुरत के अनुसार सर्च करते हैं अपने विषय को. 

और सर्च इंजन से मिले Results पर क्लिक कर के ब्लॉग पर पहुचता हैं और उसी से हमारे ब्लॉग या पोस्ट को Organic Traffic मिलती हैं.   

What is Google Search Engine In Hindi
2 :- जैसा की. भारत में सब से ज्यादा  Use किया जाने वाला Search Engine “Google” हैं. और गूगल सर्च इंजन का कार्य होता हैं की, किसी भी User के द्वारा सर्च किये गए Keyword से रिलेटेड बेस्ट से बेस्ट Article को कुछ ही पलो में User को उपलब्ध करना होता हैं. 

वो भी उसी Keyword पर लिखे गए हजारो पोस्ट में से छाट कर, सही इफर्मेशन वाले  10 Unique Post अपने First Page पर उपलब्ध (visible) कराता हैं. ताकि User का समय बच  सके और साथ ही उसे सर्च किये गए विषय की सही जानकारी मिल सके.

seach-google

क्या आपने सोचा हैं हर दिन एक ही Keyword पर ना जाने कितने पोस्ट लिखे जाते हैं और गूगल उनमे से  बस  10 ही पोस्ट निकाल कर हमें अपने प्रथम पेज पर दिखता हैं.  

आखिर कैसे पता चलता हैं गूगल को की User के द्वारा सर्च किये गए Keywords के लिए प्रथम पेज  पर दिखाए जाने वाले पोस्ट सही जानकारी और कीवर्ड से रिलेटेड ही Content हैं?

 

What is Google Crawlers Robot hindi

सर्च इंजन Crawlers क्या हैं ?

3 :- User के द्वारा सर्च किये गए Keywords से रिलेटेड Content की सही जानकारी को उपलब्ध कराने में Google Crawlers / Robot मदद करता हैं.  

Google Search Engine को  रोजाना लिखे जाने वाले लाखो पोस्टो की सही जानकारी को उपलब्ध करा उसे  Index  कराने में मदद करता हैं . Crawler  Robot  आप की वेब साईट पर समय समय से जाता हैं

और आपके ब्लॉग सहित पोस्ट को भी Crawl करता हैं  और आपके द्वारा किये गए पोस्ट को अपनी Google Search Library (Database) में Index करता हैं.

और जब भी कोई उपभोक्ता किसी  कीवर्ड को सर्च करता हैं तो, गूगल के यही  Crawler जिसे स्पाईडर भी कहते हैं जो Google Library  से यूजर के लिए उपयोगी साबित होने वाले  10 सबसे बेहतरीन पोस्टों को अपने Search Results में दिखाता हैं.जिससे यूजर को काफी सहायता मिलती हैं अपने पसंदीदा सब्जेक्ट की सही जानकारी प्राप्त करने में

नोट:-  बताते चले की Google Search Engine सिर्फ 10 ही पोस्ट अपने Result में शो नहीं करता बल्कि 100 पोस्टों को दिखाता हैं. दस अलग-अलग पेजों के जरिये 10 – 10 के Group में.

लेकिन महत्वपूर्ण बात यह हैं की, जो भी यूजर होते हैं वो अधिकतर पहले पेज पर दिखाए गए रिजेल्ट को ही देखते हैं और  उन्ही में से अपनी जानकारी को प्राप्त कर लेते हैं.

What is SEO In Hindi की  शुरुआत में ही आपको Search Engine के बारे में बताने का मात्र यही उद्देश्य हैं की आप समझ सके की कितना महत्वपूर्ण होता हैं एक ब्लॉगर को Google Search Engine के पहले पेज पर अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पोस्ट को लाना.

ताकि अधिक से अधिक Traffic मूव कर सके अपने ब्लॉग पर.और अधिक से अधिक Online Earning  की जाए, तो आईये जानते एसईओ क्या हैं?


What is the Full Form SEO in Hindi?

Question 4 :- What Does SEO Mean?  एसईओ का पूरा मतलब होता है.  Search Engine Optimization.  (सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन) होता हैं.

S Search
E Engine
O Optimization

Search Engine Optimization  जो Search Engine के Rule को Follow करते हुए हमारे Blog या पोस्ट को Optimize करता हैं. जिसे हम सॉर्ट में SEO कहते है.

What is SEO In Hindi

5 :-  आज के दौर में इन्टरनेट लोगो के जीवन का एक बहुत ही महतवपूर्ण हिस्सा बन चूका हैं.  Digital marketing की बात हो या बड़ी-बड़ी कंपनियों के प्रोडक्ट सेल या प्रमोशन की बात हो, या Online Servies तथा जानकारी या मनोरंजन उपलब्ध कराने वाली वेबसाइट या ब्लॉग की बात हो, सब तीन ही शब्द के एक ही खम्भे पर स्तिर हैं.और वो हैं SEO. इसकी मांग आज दुनिया भर में सब से ज्यादा हैं.

इसी लिए बड़ी-बड़ी कम्पनियां अपने आपको इन्टरनेट पर आगे रखने के लिए, बड़े बड़े SEO एक्सपर्ट का सहारा लेते हैं. ताकि अपने प्रोडक्ट या अन्य सामग्री को  गूगल सर्च इंजन के पहले पेज के टॉप पोजिशन  पर रेंक करा सके,

जिससे उन्हें अनलिमिटेड Organic Visitors मिल सके.  और इसी लिए बड़ी-बड़ी कंपनिया  Search Engine Optimization पर लाखों रुपये  ख़र्च करती हैं.

अगर हम इसे आसान और कम शब्दों में कहे तो SEO किसी भी Website के Traffic को बढ़ाने में अपनी अत्यंत  महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है. ताकि हमारे Website पर आसानी से Organic Visitors  ला सके.

नोट:- . SEO को और विस्तार से जानने से पहले जानेंगे संक्षेप में  Google Algorithm  और Backlink के बारे में. बिना इन्हें जाने और समझे SEO के कार्य को समझाना थोडा मुश्किल होगा तो पहले इन्हें जानते हैं. 

Google Algorithm kya hain

Google Algorithm क्या हैं? 

6 :- एल्गोरिथ्म गूगल का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं.  Google एल्गोरिदम   Google Search Engine का उपयोग करने वाले User के लिए, का कार्य करता  हैं.

यह Google पर Search किये जाने वाले विषय (Query) का Best useful Results को दिखाने का कार्य करता हैं. ताकि गूगल के  उपयोगकर्ता को सही जानकारी उपलब्ध  हो सके.

अपने User  को Useful Results दिखाने के लिए Google Algorithm कई Factors पे कार्य करता हैं या यूँ कहे अनगिनत Factors पे कार्य करता हैं.

जो बेहतर Results के लिए  Algorithm अपने अलग अलग Factors के द्वारा एक ही कीवर्ड पर लिखे गए लाखो पोस्टों की गुणवक्ता को देखता हैं और Spam को filter  करता हैं और गूगल सर्च इंजन को सबसे अधिक उपयोगी पोस्ट को उपलब्ध करता हैं. क्रम  के अनुसार. 

गूगल की सबसे बड़ी खासियत यह हैं की यह अपने उपयोगकर्ता को सबसे बेहतर Results दिखाने  के कार्य पर दिन रात काम करता हैं. जिसके लिए अपने एल्गोरिथ्म में बदलाव भी करता रहता हैं. ताकि और अधिक बेहतर  रिजेल्ट दे सके अपने User को.

आशा करता हूँ आपको संक्षेप में बताई गयी बातो से समझ में आ गया होगा की  गूगल एल्गोरिदम  कैसे कार्य करता हैं.   और क्यों SEO का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं

 

Backlink kya hain

Backlink क्या है?

7 :-  बैकलिंक एक ईएसआई प्रक्रिया हैं जो  आपके ब्लॉग को Google Search Engine पर   High Ranking  दिलाने में मदद करता हैं. और आपकी एसईओ की गुणवक्ता को भी बढाता हैं.

Backlink कैसे कार्य करता हैं? :- साधारण और कम शब्दों में बताते चले की Backlink हमारे ब्लॉग पोस्ट के लिए एक अहम् भूमिका को निभाता हैं.  यह हमारे आर्टिकल पर  Organic Visitors को लाता हैं.

बैकलिंक कैसे बनाते हैं? :-  बताते चले की यह एक प्रकार का लिंक होता हैं जो आपके ब्लॉग या आर्टिकल का होता हैं जिसे हम अपने Topic से  रिलेटेड ब्लॉग या वेबसाइट पर जा के बनाते हैं कमेंट्स या गेस्ट-पोस्टिंग के द्वारा.

Backlink  से क्या फायदे हैं? :- इस लिंक को बनाने के लिए हम दूसरो की वेबसाइट या ब्लॉग का उपयोग करते हैं. जरा सोचे कोई ब्लॉग हैं जिसपे हजारो की संख्या में Visitors आते हैं. और उसी Blog पर आपके ब्लॉग का भी लिंक होगा तो उस लिंक के माध्यम से आपके ब्लॉग पर भी Visitors आयेंगे. और साथ ही Search Engine Optimization के  Factor से गूगल के लिए एक अच्छा सिग्नल भी जाता हैं. जिससे आपके ब्लॉग या पोस्ट की Authority भी बढती हैं.

बैकलिंक कितने प्रकार के होते  हैं? :-  यह दो प्रकार के हैं जिसका उपयोग हम अपने ब्लॉग की गुणवक्ता को बढ़ने के लिए करते हैं. इसे हम दो नामो से जानते हैं

  1. Dofollow Backlinks
  2. Nofollow Backlinks

नोट:- . आपने जाना दो महत्वपूर्ण बिन्दुओं को जो हमारे SEO  की Quality को बढाता हैं. अब आगे बढ़ते हैं. और जानते हैं SEO  से जुडी जानकारियों को एक-एक कर के

SEO क्या करता हैं हमारे ब्लॉग पर
8 :-  मान लीजिये की आपने एक ब्लॉग बनाया और उसमे एक पोस्ट लिखा और उसका Keyword हैं ( Why SEO is so important?)  और  आपने इस पोस्ट में  SEO नहीं किया हैं.

तो Google Search Engine  के Web Crawler आपके उस ब्लॉग पोस्ट के Content को क्रॉल नहीं कर पाता जिसके कारण आपकी पोस्ट गूगल के Database पर Store नहीं हो पाती, जिसके कारण गूगल अपने Top 10 Page पर ही नहीं अपने Result के 100 पोस्ट में भी नहीं दिखाता.

ज़रा सोचिये? अगर आपके द्वारा कड़ी मेहनत से लिखा गया  High Quality Content वाला पोस्ट Google Search Engine में Show ही नहीं हो तो आपका लिखा गया पोस्ट किस काम का?

अगर हमें अपने ब्लॉग या वेबसाइट से Online Earning  करना चाहते हैं तो, अपने ब्लॉग सहित उसमे किये जाने वाले पोस्ट (Article ) का भी SEO करना जरुरी हो जाता हैं.

ताकि Google के Crawlers हमारे Article Content  को आसानी से Crawl  कर सके और उसे Top Ranking  के साथ अपने Database पर Store कर सके.

और जब भी कोई User हमारे Article से जुड़े  Keywords को सर्च इंजन पर खोज करता हैं तब हमारे Search Engine Optimization किये गए पोस्ट का गूगल के First Page  में आने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती हैं.

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन करने से हमारे Website को Organic Traffic मिलने के चांस ज्यादा हो जाते हैं और हमारी Online Earning  भी बढ़ जाती हैं. जैसा की हम Blogging घर बैठे पैसे कमाने के लिए करते हैं.

जरा सोचे? अगर ब्लॉग पर Organic Traffic नहीं तो Income नहीं.  और आपकी मेहनत पानी में. तो आप कुछ-कुछ समझने ही लगे होंगे की Why SEO is so important for a website? और क्यों जरुरी हैं  हमारे आर्टिकल पर  सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन  करना.

निराश ना हो आज हम  “What is SEO” के इस हिंदी आर्टिकल में सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन से जुड़े सभी सवालों के जवाब आसान शब्दों में दूंगा. ताकि आप इसका उपयोग अपने Website या Blog Post पर  Advanced  तरीके से कर सके और अपने Article को जल्द से जल्द रैंक करा पायेंगे. तो अब जानते हैं  Step By Step

Types of SEO in Hindi 

 

Types of SEO in Hindi 

9 :-   SEO मुख्यत 2 प्रकार के होते हैं जिन्हें दो भागों में विभाजित किया गया है जिसे हम

  • 1) On Page Optimization
  • 2) Off Page Optimization

के नाम से जानते हैं और यही दो Important Factor जो हमारी वेबसाइट को गूगल पर Ranking दिलाता हैं और यही Organic Traffic का सबसे बड़ा जरिया बनता हैं.

तो अब जानते हैं  On-Page SEO  और  Off Page SEO क्या हैं और क्या कार्य करता हैं. और हमें यह करने की क्यों जरुरत हैं?

किसी भी ब्लॉग पोस्ट को Best तरीके से ऑप्टिमाइजेशन करने के लिए हम ऑन पेज और ऑफ़ पेज एसईओ की Help लेते हैं. क्युकी यह गूगल Algorithm के Rule को ध्यान में रखते हुए  दो Important Factor बनाये गए गए हैं . जिसे हम On Page SEO और Off Page SEO के नाम से पहचानते हैं  या जान सकते हैं.

सरल शब्दों में कहे तो यह गूगल Algorithm के सभी Rule को Follow करने वाले दो समूह   (Group) हैं. यह दोनों Categories एक Guide  की तरह हैं. जो हमें…

  • Google Algorithm Friendly ,
  • Mobile-Friendly,
  • User Friendly

Content कैसे लिखे या कैसे तैयार करे से जुडी वो कुंजी (Key) हैं या यु कहे वो  Teacniques हैं. जिसका उपयोग करके हम अपने कंटेंट की गुणवक्ता को अत्यधिक बढ़ा सकते हैं.

आज के दौर के सभी सफल ब्लॉगर SEO के Teacniques को अपनाते और इसका उपयोग करते हैं. अगर हम New Bloggers  भी Optimization के  Rules को Follow करे और अपने आर्टिकल पर इसके Teacniques का अच्छे से  इस्तेमाल करे तो,  Content की भी गुणवक्ता कई गुना बढ़ जायेगी.

जिसके कारण हमारे Content की Ranking गूगल सर्च इंजन पर दिन प्रति दिन Increase होगी. साथ ही हमें Organic Traffic भी मिलेगा जिससे हम अधिक से अधिक Online Earning भी कर सकते हैं. एक Successful Blogger की तरह.

आशा करता हूँ  की “What is SEO” के पोस्ट में SEO से जुड़े कई सवालो के जवाब आपको अभी तक मिल चुके होंगे. जिन्हें आप आसानी से समझ गए होंगे. अब आगे जानते हैं. ऑन-पेज एसईओ क्या हैं?

On-Page SEO Hindi 

What is On-Page SEO in hindi ?

10 :-   What is On Page SEO in Hindi :- यह आपके Website और Content को Search Engine Friendly बनाने वाले वाली तकनीकों से जुड़ी एक  Guidelines हैं.
On-Page Optimize को कई अलग अलग भागो में बाटा गया हैं. यह बहुत सारे Factors पर कार्य करता हैं. सबसे अच्छी बात यह हैं की. ऑन-पेज एसईओ के सभी Factor का Control खुद से कर पाते हैं. जो आपके Website के Interface में होता हैं. जिसे आप बेहतर तरीके से कर पाते हैं.

अब आगे जानते हैं कुछ ऑन-पेज एसईओ के Common Factor के बारे संक्षेप में Step By Step, जिसका इस्तेमाल (implement ) करके अपने ब्लॉग पेज की गुणवक्ता को बढ़ा सकते हैं, ताकि आप का ब्लॉग बड़ी ही आसानी से Organic Results के Top 10 Page में Rank कर सके.

ऑन-पेज एसईओ करने के लिए आपको अपने Website के Interface (Admin Penal) का प्रयोग करना पड़ता हैं. और Admin Penal के द्वारा बड़ी ही आसानी से अपने Blog और Content को On Page Optimization कर सकते हैं. आईये जाने इसके कुछ महत्वपूर्ण भागो को.

Importent Factor
(a):- Content
ऑन-पेज एसईओ का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा आप का कंटेंट होता हैं और उसमे उपलब्ध सामग्री का सबसे बेहतरीन होना मायने रखता हैं. तो सबसे पहले ध्यान अपने Content पर दे. और अपने ब्लॉग के लिए Unique Article ही लिखे पूरी जानकारी के साथ.

(b):- Architecture
अपने वेबसाइट की डिजाईन का सबसे ज्यादा ध्यान दे फालतू बिना काम के विजिट को हटा दे डिजाईन को साफ़ सुथरा रखे.

(c):- HTM Tag Code
किसी भी वेबसाइट को बनाने के लिए कोडिंग का इस्तेमाल किया जाता हैं. वेबसाइट को गूगल सर्च रिजेलेट या अन्य तरह की सुविधा को बेहतर करने के लिए HTM Tag Code का इस्तेमाल करते हैं.

(d):- Content Length
ऑन-पेज एसईओ का मुख्य हिस्सा आपका आर्टिकल होता. इस लिए सबसे महतवपूर्ण बात ये हैं की आपको सबसे ज्यादा फोकस अपने कंटेंट पर करना होगा.

अगर आप किसी भी Product Review कर रहे या या किसी भी Subject पर जानकारी (Information) दे रहे हैं तो आपको उस विषय से जुडी अधिक से अधिक जानकारियों को बताये ताकि आप के Content में अधिक से अधिक शब्द जुड़ सके ताकि बेहतरीन जानकारी से भरा पोस्ट बन सके.

(e):- Mobile Friendly
इंटरनेट आज के समय में सबसे ज्यादा उपयोग Mobile पर किया जाता हैं. और हमारे ब्लॉग को सबसे अधिक Traffic मोबाइल से मिलती हैं. इसी लिए आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का Mobile Friendly  बनाना जरुरी हैं.

(f):- Website Speed
आजके भाग दौड़ की दुनिया में किसी के पास समय नहीं होता हर कोई चाहता हैं काम जल्दी हो फ़ास्ट हो. इसी तरह इंटरनेट पर भी लोग हर काम को Fast तरीके से करना चाहते हैं. और इसी लिए हर ब्लॉग की Loading Time भी फ़ास्ट होनी चाहिए,  ताकि User का Time बच सके और आप की वेबसाइट पर आसानी से Visit कर पाए.

(g):- Page Size
अपने Content को बेहतर बनाने के लिए बहुत सी Image, विडिओ और कई तरह के Widget का उपयोग करते हैं जिसकी वजह से हमारे पेज की साइज़ बढ़ जाती हैं और उसकी वजह से हमारे पोस्ट की Loading Time बढ़ जाती हैं. जिसकी वजह से यूजर हमारे पोस्ट को छोड़ कर दुसरे की पोस्ट पर चला जाता हैं. इस लिए हमें  Page Size अच्छे से Optimization करना चाहिए.

(h):- Image Optimization
ब्लॉग पर इस्तेमाल  करने वाले Photos को Upload करते Time अपनी Images के Size को Reduce कर ले तली आपके Images की  Size कम हो जायेगी और आपके ब्लॉग पर Fast तरीके से Open होगी.

Images की Size Reduce करने के लिए कई तरह के WordPress Plugins भी उपलब्ध हैं जिनका हम इस्तेमाल कर सकते हैं Photos Size को Reduce कर सकते हैं.

(i):- Image Alt Tag
Image भी एक अच्छा Source होता हैं अपने ब्लॉग पोस्ट पर Traffic को लाने का. इसलिए हमेशा अपने Images पर Alt Tag जरुर डालना चाहिए ताकि आपकी Image भी गूगल के डाटाबेस में Index हो सके.

(j):- Internal Links
अपने ब्लॉग पर Visitors को रोकने के लिए. लिखे गए आर्टिकल से मिलते जुलते पोस्ट का Internal Links जरुर करे ताकि अन्य पोस्टो का भी Page View बढेगा और साथ ही Link किये गए पोस्ट की Ranking भी बढ़ेगी.

(k):- External Links
अपने Content की गुणवक्ता को बढाने के लिए अपने आर्टिकल में इस्तेमाल किये गए किसी खास Topic या Word को विस्तार से समझाने के लिए किसी दुसरे ब्लॉग की गुणवक्ता से भरे पोस्ट को अपने आर्टिकल में जोड़ा जाता हैं जिसे External Links कहते हैं और यह भी एक SEO Important Factor है.

(l):- Keyword Research
Article को जल्द से जल्द Rank करने के लिए Proper तरीके से कीवर्ड रिसर्च करना होता हैं और कम से कम Difficulty और अधिक Traffic व CPC वाले Keyword को चुनना होता हैं.

Keyword  Research कर के निकाले गए Keyword का Competition Lowहोगा और आप जल्द ही गूगल के No.1 Position पर Rank कर सकेंगे.

(m):- Long Tail Keywords
कीवर्ड रिसर्च के दौरान हमेशा New Blogger को अपने आर्टिकल के लिए Long Tail Keywords को ही चुनना चाहिए Sort Keywords का Competition बहुत High होता और उसे गूगल पर रेंक करने में काफी समय लग सकता हैं.

(n):- Highlight Important Keyword
ब्लॉग पर लिखे गए Article के खास खास शब्दों को जरुर से Highlight करे इससे आप को दो फायदे होंगे एक तो आप के द्वारा Important Highlight किये गए Keyword भी पोस्ट के साथ साथ Rank करने लगता हैं और दूसरा आर्टिकल को पढ़ने वाले User को भी अच्छा लगता हैं.

(o):- Other Techniques
अब जानते हैं थोड़े से Other Techniques जो On Page Optimization से जुड़े हुए हैं. जिनका भी हमें अपने Article में इस्तेमाल करना हैं On Page SEO के Rules के अनुसार

  1. URL Structure
  2. SEO Friendly URL
  3. Title Tag
  4. Heading Tag
  5. Meta Description
  6. Content Quality
  7. Keyword Density
  8. Sitemap
  9. Check Broken Links

आपने जाना संक्षेप में ऑन पेज एसईओ के बारे में. अगर आपको इस विषय को विस्तार पूर्वक बारीकी से  जानना हैं तो हमारी एक और Post पढ़े जिसमे Step By Step समझाया हैं कि On Page  SEO कैसे करे Blog और  Post का?  और जाने ऑन पेज एसईओ के  Best Techniques को, जो आपके  Website के लिए वरदान साबित होगा..

क्या आप जानते हैं वर्डप्रेस डैशबोर्ड क्या हैं ? और कैसे काम करता हैं WordPress Control Panel? अगर नहीं तो जरुर पढ़े हमारा यह पोस्ट जो आपके लिए उपयोगी साबित होगा.

Off-Page SEO Hindi 

What is Off Page SEO in Hindi on 

11 :-   Off Page SEO क्या है? जब हम अपने ब्लॉग पर कोई आर्टिकल को लिखते हैं तब हम उसका On Page Optimization करते हैं और उसके बाद पोस्ट को Publish कर देते हैं.  और तब हमारा ऑन पेज एसईओ का कार्य पूरा हो जाता हैं.

और फिर उसके बाद हम Publish किये गए  Post का Off Page Optimization करते हैं. ताकि हमारा Article पूरी तरह से Google Algorithm Rules के हिसाब से SEO Friendly हो जाए.

फ़ पेज एसईओ:- यह एक ऐसा टेक्नीकल फार्मूला हैं जिसके जरिये हम अपने पोस्ट को Google Search  Result के No.1 Position में  Rank करा सकते हैं. और साथ ही अपने पोस्ट की Authority  को भी Increase कर सकते हैं.

Off Page SEO को सरल भाषा और संक्षेप में समझे तो इसका अर्थ यह निकलता हैं की. यह एक प्रकार से अपने पोस्ट का  प्रमोशन करना  शेयर करना होता हैं.

Social Media या अपने आर्टिकल से मिलते जुलते Niche पर बने वेबसाइट पर या और भी Internet पर उपलब्ध अलग अलग Platform पर करते हैं.

जिससे  वहा से आपके ब्लॉग पर Traffic भी भी मिलती हैं और गूगल को भी एक अच्छा Signals मिलेगा आपके ब्लॉग का, किसी अन्य  Authority वाले Blog से जिससे गूगल की नज़र में Trust  भी बढेगा आपके Website का और आपके आर्टिकल की Ranking भी बढ़ेगी.

तो आईये अब जानते हैं  “What is SEO” के इस भाग में, कौन कौन से उपलब्ध Internet Platform इसके जरिये हम  Off Page Optimization कर सकते हैं. तो आगे बढ़ते हैं और जानते हैं वो बेहतरीन Techniques जिसको हम अपना सकते हैं.  और अपने Content को Powerful बना सकते है.

ऑफ़ पेज एसईओ कई अलग अलग Factors पे काम करता हैं. तो आईये जानते हैं What is SEO In Hindi के इसी पोस्ट में  Step By Step संक्षेप में ऑफ़ पेज एसईओ  को करने के Unique Techniques जो बहुत ही महत्वपूर्ण हैं.

Off Page SEO Importent Factor HINDI

Importent Factor

 (a):- Search Engine Submission
वैसे तो Search Engines आपके site को धीरे धीरे खोज ही लेंगे लेकिन ऐसा करने में कुछ समय लगता है.. इस प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए आपको अपने Website को popular search engines जैसे की Google, Yahoo, Bing, इत्यादि में अपने ब्लॉग पोस्ट को  Submit करना होगा.

Search Engine Submission ऑफ़ पेज एसईओ का महत्वपूर्ण हिस्सा अपने आर्टिकल का Search Engine Submission करना होता हैं. ताकि आपका ब्लॉग पोस्ट को Search Crawlers जल्द ही  Crawl कर सके और अपने सर्च Directory में Submit कर सके.

और आपके आर्टिकल में दिए गए Keyword को कोई User  सर्च इंजन में सर्च करे तो आपका आर्टिकल भी  Search Result  में आ सके.

(b):- Social Networking Site
सोशल नेटवर्किंग साईट सबसे अच्छा तरीका होता हैं अपने ब्लॉग पोस्ट की लिंक को शेयर  करने का और वहा अपने आर्टिकल के लिए एक अच्छा Backlink भी बना सकते हैं. और साथ ही उसे ढेरो Social Site पे Share कर सकते हैं. 

Popular Social Networking Site

  • Facebook
  • Facebook Page
  • Facebook Group
  • Twitter
  • Whatsapp
  • LinkedIn
  • Linkedin
  • Pinterest
  • Reddit

जैसे कुछ और भी सोशल साईट हैं जहा अपने ब्लॉग के Niche से मिलता ब्लॉग की प्रोफाइल बनाये और साथ ही अपने ब्लॉग पर किये जाने ने वाभी पोस्ट को शेयर भी करे इन सभी सोशल मिडिया साईट पर.

क्युकि यह एक ऐसा Internet का Platform हैं जहा अनगिनित User Visit करते हैं. और यहाँ से आप अपने आर्टिकल पोस्ट के लिए एक अच्छा ख़ासा Traffic  भी पा सकते हैं.

सोशल साईट पर अपने पोस्ट का Link (URL) शेयर करना Off Page Optimization के अंतर्गत आता हैं. जिसे सभी Popular Blogger  करते हैं और हमेशा Active भी रहते हैं.

(c):- Directory Submission
आज के टाइम में Directory Submission से उतना फायदा नहीं होता हैं एक ब्लॉग को SEO की नज़र से,  लेकिन फिर भी कुछ विश्वशनीय Directory Blog में अपने URL का Submission करना चाहिए. ताकि आपके Backlinks बढ़ सके.

(d):- Question and Answering Site
Off Page Optimization को करने के लिए Question answers sites का भी बहुत बड़ा हाथ होता  हैं क्युकि हम ऑफ़ पेज एसईओ को सर्च इंजन और Traffic को अपने ब्लॉग पर लाने के लिए करते हैं. नीचे कुछ Popular Question and Answering के Site Link दिए हैं, जिनका आप  उपयोग कर सकते हैं.

  •  Yahoo Answers,
  • Quora,
  • Reddit.

Question and Answering के Site हमारे ब्लॉग पर  Traffic लाने का काम करता हैं बस हमें इन साईट काअच्छे से उपयोग करना चाहिए.  ब्लॉग के Niche  से जुड़े लोगो द्वारा पूछे गए सवालो का सही जवाब दे. और जवाब के साथ साथ अपने Blog की Link Publish भी करे.

ताकि आपके द्वारा दिए गए सवालो के जवाब से संतुष्ट हो कर User आपके ब्लॉग के दिए गए लिंक को Click कर के आपके ब्लॉग पर भी आ सके.

(e):-  Guest Posting
हमारे ब्लॉग की Authority बढाने में सबसे बड़ा योगदान Guest Posting का होता हैं. जो हमारे Blog का Referral Traffic बढ़ता हैं. और साथ ही गूगल सर्च इंजन को हमारे ब्लॉग का एक अच्छा सिग्नल भी देता हैं.  और Blog की Authority Increase होती हैं.

इसके लिए हमें अपने Blog या Article से जुड़े Niche पर बने ब्लॉग या वेबसाइट को सर्च करना हैं. जो गेस्ट पोस्ट करने की अनुमति देता हो.

तब आप उनसे कॉल, मेल या मैसेज के द्वारा सम्पर्क करे और उनके ब्लॉग के लिए अच्छा सा अपने Topic से मिलता Article लिखे और उसमे अपने ब्लॉग का लिंक दे.

Guest Blogging आपके ब्लॉग पोस्ट की Authority बढाने  और आर्टिकल पर Referral Traffic लाने का सबसे अच्छा तरीका होता हैं.

(f):-  Blog Commenting
ब्लॉग कमेटिंग भी Off Page SEO का एक और महत्वपूर्ण हिस्सा (Factors) होता हैं. और इसके जरिये हम अपने आर्टिकल के लिए Backlinks  बना सकते हैं.

नोट:-  Blog Commenting से पहले ये ध्यान रखे जिस ब्लॉग पर आप कमेन्ट कर रहे हैं क्या वो ब्लॉग आपके लिखे टॉपिक से मिल रहा हैं या नहीं.

और हमेशा अपने से ज्यादा DA – PAवाले ही ब्लॉग पर ही Comment  करे, स्पेम रेट भी चेक करे साथ ही ये देख जिस ब्लॉग पर आप कमेन्ट कर रहे वो ब्लॉग  Comments को Approve करता हैं की नहीं.

Blog Commenting जरुर करे इससे आपके ब्लॉग को लोग जानेगे और ढेरों Backlinks भी बनेंगे,  कमेन्ट के दौरान दिए गए लिंक पर Click कर के आप के ब्लॉग पर भी लोग आयेंगे जिससे आपको Traffic  भी मिलेगी.

इसी तरह ऑफ़ पेज एसईओ के कई Factors होते हैं. जिनका इस्तेमाल करके हम अपने ब्लॉग या वेबसाइट की Authority  बढ़ाते हैं. और Google Crawlers को अच्छा सिंगनल पहुचाते हैं.

जिससे गूगल सर्च के टॉप में हमारा आर्टिकल आ सके और हमारी  Traffic Increase हो सके. इसी तरह Off Page SEO से जुड़े और भी बहुत से Factors हैं जिनका उपयोग न्यू ब्लॉगर ही नहीं हर एक सफल ब्लॉगर करता अपने आर्टिकल को Powerful बनाने के लिए.

Other  Off Page SEO Factors

  • Social Bookmarking
  • Local Listings
  • Link Baiting
  • Forum Posting
  • Delicious etc
  • Blog Marketing
[/su_table]
क्या आप जानते हैं वर्डप्रेस क्या हैं? और हर एक सफल ब्लॉगर क्यों वर्डप्रेस का ही इस्तेमाल करते हैं और क्या-क्या फायदे मिलते हैं WordPress का इस्तेमाल करने से ब्लॉगिंग क्षेत्र में.

Type of SEO Techniques Hindi

Type of SEO Techniques

12 :-   What is SEO” की जब बात चलती हैं तो  कुछ और भी सवाल हमारे दिमाग में आते हैं SEO को लेकर. आखिर क्या हैं  Type of SEO Techniques क्या हैं और कैसे कार्य करता हैं? 
  1. White Hat SEO
  2. Gray Hat SEO
  3. Black Hat SEO

और आखिर वाइट हेट एसईओ, ब्लैक हेट एसईओ और ग्रे हेट एसईओ का  क्या कार्य होता हैं और कैसे करता हैं, हमारे ब्लॉग या पोस्ट पर और क्या फायदे हैं? तो आईये इन सवालो के भी जवाब जानते हैं “What is SEO”  के इस पोस्ट में.

White Hat SEO Techniques HINDI

What is White Hat SEO?

13 :-   वाइट हेट एसईओ वो तकनीक हैं जिसका इस्तमाल हम सभी को करना चाहिए क्युकी यह वो चाबी हैं जिसकी मदद से हम गूगल सर्च इंजन में  अपने आर्टिकल को No.1 Position में ला सकते हैं 

यह Technique Google के Guidelines को Follow करता हैं Google Search Engine के तमाम Factor को ध्यान में रख के किया हैं. इसी कारण इसे वाइट हेट एसईओ कहा जाता हैं. तो आईये संक्षेप में जानते हैं की White Hat SEO कैसे करते हैं और क्यों जरुरी हैं?

White hat SEO का इस्तेमाल करने से हमारे हमारे ब्लॉग या आर्टिकल पर  Google Search Engine का Trust बढ़ता हैं.  जिससे हमारा ब्लॉग पोस्ट जल्द रेंक करता हैं सर्च इंजन पर. इसके लिए हमें

Content पर सबसे ज्यादा ध्यान देना चाहिए, क्युकि Google Guidelines Rules के अनुसार गूगल अपने User को को सबसे Unique Content ही Result ही दिखाना चाहता हैं. इसके लिए सबसे पहले आप अपने आर्टिकल पर ध्यान दे.

जिस विषय पर लिख रहे हैं उसकी पूरी सत्यता और जानकारी के साथ दे ताकि आप के आर्टिकल को पढ़ने वाले User संतुष्ट हो ना की आके सोचे क्यों खोल ली साईट और वो बहार चला जाए आधी अधूरी जानकारी ले कर इसी लिए जो लिखे उसे पूरा लिखे समझाते हुए तब हो तो कहा गया हैं की!

Content is King 

White Hat SEO के अन्दर Website Speed आता हैं जो User के समय का ध्यान रखता हैं. इसी लिए आपको अपने ब्लॉग का Loading Time  को FAST  रखना होगा.

Title and Meta Description में आप उन्ही keywords का प्रयोग करे जो वास्तव में आप के आर्टिकल से जुड़ा हो और आपके आर्टिकल में keywords से जुड़ी जानकारी हो.  इसी तरह White Hat SEO के अंतर्गत कई Factors होते हैं जिनमे कुछ ख़ास Factors को जानते हैं? 
  • Title
  • Meta Description
  • Meta Keywords
  • Heading H1,H2,H3 etc
  • Image alt tag
  • Last paragraph of the post
  • Keyword density
  • Links

तो आपने संक्षेप में समझा की वाइट हेट एसईओ की तकनीक क्याहैन और इसे कैसे अपनाते हैं Google Guidelines को Follow करते हुए. अब आगे जानते हैं, ब्लैक हेट एसईओ तकनीक क्या हैं?

Black Hat SEO Techniques HINDI

What is Black Hat SEO?

14 :-   ब्लैक हेट एसईओ तकनीक क्या हैं? सर्च इंजन में अपने ब्लॉग या वेब साईट को रैंक करने के दो तरीके होते हैं एक तो White Hat SEO  जिसे नियम को मानते हुए किया जाता हैं. अपने आर्टिकल को गूगल में Rank कराने के लिए.

Google के दिशानिर्देशों को नज़र अंदाज़ करते हुए जल्द से जल्द सर्च इंजन  पर Ranking बढ़ाने  और No.1 की Position पर अपने आर्टिकल को लाने के लिए गलत तकनीक का इस्तेमाल  करना ही ब्लैक हेट एसईओ कहलाता हैं.

ब्लैक हेट एसईओ तकनीक का कैसे इस्तेमाल करते हैं :- सर्च इंजन में अपने ब्लॉग या वेब साईट को रैंक कराने के लिए अक्सर लोग अपने आर्टिकल के

Meta Keywords:- लिखते हुए  उन कीवर्ड  का इस्तेमाल करते हैं जो आपके आर्टिकल से नहीं मिलते और Meta Keywords देख कर जो भी User आता हैं ब्लॉग पर उसे धोखा मिलता हैं.  इसी तरह अलग अलग चीजों पर इसी तरह से गुमराह करना होता हैं सर्च इंजन के Crawlers को ताकि जल्दी ही रेंक करा सके अपने आर्टिकल को

तो इसी क्रम में हम बताते हैं कुछ Black Hat SEO करने की तकनीक जिसका इस्तेमाल अपने आर्टिकल को टॉप पर लाने के लिए करते हैं.

  • Spamdexing
  • Article Spinner
  • Keyword Stuffing
  • Backlinking
  • Link Building
  • keyword density
  • Invisible Text
  • Invisible iFrames

इन सभी Method का इस्तेमाल कर के लोग पने पोस्ट को रैंक भी लोग करा लेते हैं लेकिन वह जल्दी ही रैंकिंग से बाहर हो जाता हैं . क्युकि Google Crawlers इतने Smart हो गए हैं कि आपके द्वारा की गई चालाकियों को पकड़ लेता हैं जिससे आपकी पोस्ट रैंकिंग से बाहर हो जाती हैं और साथ ही आपके ब्लॉग को Punishment भी देता हैं.

तब ही तो कहा जाता हैं कि एक सफल ब्लॉगर वही होता हैं जो Google के दिशानिर्देशों को पूरी ईमानदारी से मानते हुए अपने आर्टिकल और ब्लॉग का SEO करता हैं .

Gray Hat SEO Techniques HINDI

What is Gray Hat SEO?
15 :-   ग्रे हेट एसईओ का भी लोग इस्तेमाल करते हैं  सर्च इंजन में रैंकिंग पाने के लिए यह तकनीक वाइट हेट एसईओ, ब्लैक हेट एसईओ का मिला-जुला फार्मूला हैं.
आर्टिकल पर Gray Hat SEO करने के कई तरीके हैं. जिसके अन्दर White Hat SEO के Method का भी Use  करते हैं और Black Hat SEO का भी Use  करते हैं. समय-समय पर.
ग्रे हेट एसईओ के तकनीक का उपयोग कैसे करते हैं? और क्या हैं इसका तरीका? यह सबसे बड़ा सवाल उठता हैं  हैं.  तो आईये जाने संक्षेप में कुछ  Gray Hat SEO Techniques In Hindi को..
Expired Domains :- का भी सबसे ज्यादा  इस्तेमाल करते हैं ग्रे हेट एसईओ के तकनीक में क्युकि Expired Domains का पहले से ही Backlink बने होते हैं Old Domain होने की वजह से इसका DA – PA अधिक होता हैं और रेंक करने में ज्यादा मुश्किल नहीं होता.
PBN (Private Blog Network) :- कई Blogger PBN का भी उपयोग करते हैं अपने ब्लॉग की Authority बढाने या अपनी पोस्ट को रेंक करने के लिए.
PBN क्या हैं? यह नेटवर्क एक तरह का खुद का बनाया ब्लॉग होता हैं और इसके द्वारा Blogger अपने आर्टिकल के लिए Dofollow Backlinks बनाने के लिए.
Article Rewriter :- की भी तकनीक  काफी प्रचलित हैं इसके जरिये लोग Popular Blog के आर्टिकल को कॉपी कर के उसे थोडा सा Rewrite कर के पोस्ट करना.
seo aur sem kya hain
SEO और SEM में क्या अंतर है?

16 :-   SEO के साथ एक और नाम जुड़ता हैं SEM का और दिमाग ये बात आती हैं आखिर SEM क्या हैं ? और क्या कार्य हैं इसका?

SEM का Fullform होता हैं “Search Engine Marketing”  यह एक प्रकार की मार्केटिंग हैं और इसके जरुये आप गूगल सर्च इंजन के टॉप पेज पर आ सकते हैं.

यह तकनीक  SEO का दूसरा रूप हैं Search Engine Optimization करने से आपके ब्लॉग पर फ्री टैफिक आती हैं लेकिन SEM एक तरह का पैसे देकर टैरिफ पाने का तरीका हैं.

कम और आसन शब्दों में समझे की SEM क्या हैं ? तो एक ही बात सामने निकल कर आती हैं की यह सर्च इंजन में अपने आर्टिकल को लाने के लिए  गूगल पर पैसे दे कर विज्ञापन चलवाना.


What Is SEO In Hindi  के इस पोस्ट से SEO से जुड़े सभी सवालो का जवाब जरुर मिल गया होगा और आपने सीखा भी होगा SEO के तकनीक को जो आपके ब्लॉग पोस्ट को Powerful बना देगा और अपने ब्लॉग की Traffic भी बाधा पायेंगे इसे अपना कर.

अगर कोई SEO से जुडी कोई बात समझ में ना आई हो तो जरुर हमें  ईमेल या कमेंट्स करे. जिससे आपके सवालो का जवाब दे सकू

आशा करता हूँ आप सभी को हमारी What Is SEO In Hindi की पोस्ट उपयोगी साबित हुई होगी और आपने इस पोस्ट से जरुर कुछ नया सिखा होगा अगर हां तो हमारी इस पोस्ट को शेयर करना ना भूले अपने दोस्तों में .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *